USEFUL LINKS

Google Translate

अनुसंधान केन्द्र - कन्नूर

केन्द्र के बारे में

कन्नूर (केरल, भारत) का अनुसंधान केन्द्र गन्ना प्रजनन संस्थान, कोयम्बत्तूर की एक इकाई है। इस केन्द्र में गन्ने के जर्मप्लास्म के विश्व संग्रहण को रखा गया है। विश्व का यह वास्तविक संग्रहण कनाल पोआएंट, फलोरिडा, यू.एस.ए. में था। इस संग्रहण को एक अन्य स्थान पर दोहरा करने के निर्णय का प्रस्ताव, गन्ना प्रौद्योगिकीयों की अन्तर राष्ट्रीय संस्था (आई.एस.एस.सी.टी.) द्वारा, 1956 में पास किया गया। विश्व भर के जर्मप्लास्म को दूसरे स्थान पर संग्रहण के लिये गन्ना प्रजनन संस्थान, कोयम्बत्तूर को चुना गया। विश्व भर के बीज संग्रहण को कनाल पोआइंट से हवाई जहाज द्वारा 1957-58 में कोयम्बत्तूर लाया गया जिसे शुरु में कृषि अनुसंधान स्टेशन, थालिपारम्बा जि़ला कैनानोर, केरल में अनुरक्षित किया गया। एक अनुसंधान केन्द्र को 1961 में कन्नूर (जिसे कैनानोर के नाम से भी जाना जाता है) के पश्चिमी समुद्री तट पर गन्ना प्रजनन संस्थान, क्षेत्रीय केन्द्र के नाम से स्थापित किया गया। थालिपारम्बा से विश्व के जर्मप्लास्म को यहां लाकर अनुरक्षित किया गया। वर्तमान में इस केन्द्र में संसार का सबसे बड़ा सैक्रम स्पीसिस के जर्मप्लास्म का संग्रहण है।

गन्ने का खेत में अनुरक्षित आई.पी.जी.आर.आई. द्वारा मान्यता प्राप्त जीन बैंक है। इस समय यहां 1806 अन्तर राष्ट्रीय और 1562 भारतीय प्राप्तियां संग्रहित हैं।

अन्तर राष्ट्रीय संग्रहण में 759 एस. आफिशनेरम, 42 एस. बारबेरी, 30 एस. साइनेंस, 145 एस. रोब्सटम, 67 एस. स्पान्टेनियम, 611 विदेशी संकर और 152 सम्बद्ध जैनरा हैं। सम्बद्ध जैनरा में 1976 और 1977 में नयू गुआइना और इंडोनेषिया से बड़ी संख्या में इकðे किये गये इरिएन्थस अरुंडिनेशियस कृन्तक शामिल हैं।

भारतीय संग्रहण में 1027 भारतीय संकर, 88 सम्बद्ध जैनरा व दूसरे, 317 एस. स्पानटेनियम और 130 आई.ए. कृन्तक हैं। भारतीय संकरों में मुख्यतयः संस्थान के मुख्यालय में विकसित को. गन्ने और वह कृन्तक हैं जिन्हें देश के दूसरे अनुसंधान केन्द्रों द्वारा लोकार्पित किया गया है। आई.ए. कृन्तक अमरीकी व्यवसायिक संकरों और भारतीय एस. स्पान्टेनियम कृन्तक के मिलन से बनाये गये संकर हैं। देश के उत्तर-पूर्वी क्षेत्र से 1981 से 1990 के बीच किये गये अभियानों में इकðे किये गये बड़ी संख्या में एस. स्पानटेनियम, इरिएन्थस और सम्बद्ध स्पीसिस भारतीय संग्रहण का हिस्सा हैं। (यहां पर केन्द्र के डिजिटल चित्रों को देखने के लिये खटखट करें)

अधिदेश

  1. गन्ने के विश्व भर के जर्मप्लास्म संग्रहण का अनुरक्षण
  2. जल प्लावन के लिये सहनशील/ प्रतिरोधि प्रजातियों का विकास
  3. नये जैनेटिक स्टाक्स के विकास के लिये जर्मप्लास्म संसाधनों का उपयोग

अनुसंधान केन्द्र के पास केवल एक मुख्य अनुसंधान कार्यक्रम है यथा - गन्ने का जर्मप्लास्म: संग्रहण, अनुरक्षण, मूल्यांकन, प्रालेखन और प्रयोग जिसके अन्तरगत 3 परियोजनायें हैं

कार्यकारी अध्यक्ष विज्ञानिक

डा0 के. चन्द्रन, वरिष्ठ विज्ञानिक (जीव प्रौद्योगिकि)

केन्द्र का पता

गन्ना प्रजनन संस्थान अनुसंधान केन्द्र, सिविल स्टेशन पोस्ट कन्नूर - 670 002 (केरल)

दूरभाष: 0497-2705054.

ई-मेल: यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.,यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.

USEFUL LINKS

Google Translate

For your Attention



Contact us





Visitors Count

1129695
Today
Yesterday
This Week
Last Week
This Month
Last Month
All days
1170
1503
9966
1109292
43335
38022
1129695
IP & Time: 18.212.120.195
2021-11-27 17:40